खरोष्ठी

तारिम द्रोणी में मिला खरोष्ठी में लिखा एक काग़ज़ का टुकड़ा (दूसरी से पाँचवी सदी ईसवी)

सिंधु घाटी की चित्रलिपि को छोड़ कर, खरोष्ठी भारत की दो प्राचीनतम लिपियों में से एक है। यह दाएँ से बाएँ को लिखी जाती थी। सम्राट अशोक ने शाहबाजगढ़ी और मनसेहरा के अभिलेख खरोष्ठी लिपि में ही लिखवाए हैं। इसके प्रचलन की देश और कालपरक सीमाएँ ब्राह्मी की अपेक्षा संकुचित रहीं और बिना किसी प्रतिनिधि लिपि को जन्म दिए ही देश से इसका लोप भी हो गया। ब्राह्मी जैसी दूसरी परिष्कृत लिपि की विद्यमानता अथवा देश की बाएँ से दाहिने लिखने की स्वाभाविक प्रवृत्ति संभवत: इस लिपि के विलुप्त होने का कारण रहा हो।

अन्य भाषाओं
Afrikaans: Kharosthi
català: Kharosthi
čeština: Kharóšthí
English: Kharosthi
español: Karosti
فارسی: خروشتی
Bahasa Indonesia: Aksara Kharosthi
italiano: Kharoshthi
lietuvių: Kharošthi
മലയാളം: ഖരോഷ്ഠി
Nederlands: Kharosthi
ਪੰਜਾਬੀ: ਖਰੋਸ਼ਠੀ
polski: Kharoszthi
پنجابی: خروشتی
پښتو: خروشتي
português: Caroste
русский: Кхароштхи
संस्कृतम्: खरोष्ठीलिपिः
svenska: Kharosthi
українська: Кхароштхі
oʻzbekcha/ўзбекча: Kharoshthi
中文: 佉卢文